अगले अँधेरे तक

125.00

जितेन्द्र भाटिया विज्ञान के अनुशासन से आने वाले लेखकों में सबसे महत्वपूर्ण कथाकार हैं. उनकी ये कहानियाँ अपने वक्त से संवाद करने के साथ ही उन नुक्तों को भी विश्लेषित करती हैं जिनसे जीवन का कार्य-व्यवहार संचालित होता है. ये कहानियाँ अपने समय की ऐसी अलग कहानियां हैं जो कथा-प्रयोगों की मारामारी के बीच भी अपनी पठनीयता से पाठक का ध्यान आकर्षित करती हैं. ‘ जितेन्द्र भाटिया की भाषा के भीतर की कोई अनियंत्रित आकुलता नज़र आती है जिसे वे सुविचारित ढंग से आकर देते चलते हैं’- प्रभु जोशी

 

3 in stock

SKU: AAT Categories: , Tag:

Additional information

Author

Jitendra Bhatia

ISBN-10

81-263-1338-2

Language

Hindi

Pages

168

Publication Year

2007

Publisher

Bhartiya Jnanpith

Binding

H

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “अगले अँधेरे तक”

Your email address will not be published. Required fields are marked *