Mindscape

65.00

Premendra Mitra

प्रख्यात बंगला कवि, उपन्यासकार, कहानीकार और फिल्मकार प्रेमेन्द्र मित्र की ये कहानियां भारतीय समाज और शहर-गाँव के बीच के फासले को परिभाषित करती चलती हैं. प्रेमेन्द्र मित्र आज के जीवन से जुड़े कई सवालों को अपनी कहानियों में समेटते हैं.

1 in stock

SKU: MS Category:

Additional information

Author

Premendra Mitra

ISBN-10

8126009985

Language

English

Pages

124

Publication Year

2000

Publisher

Sahitya Akademi

Binding

S

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Mindscape”

Your email address will not be published. Required fields are marked *